निस्तारण में लापरवाही करने पर होगी कार्यवाही: डीएम

Share On :

बदायूं। आईजीआरएस प्रणाली पर आमजन द्वारा जनपद में विभिन्न विभागों में समयबद्ध 1384 तथा 418 लम्वित प्रकरण पाए जाने पर समस्त विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि समस्त संदर्भां को तत्काल निस्तारित कराएं।
बुधवार को कलेक्ट्रेट स्थित सभाकक्ष में जिलाधिकारी अनिता श्रीवास्तव की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक आयोजित की गई। उन्होंने पीडी डीआरडीए विजय कुमार श्रीवास्तव के समय अवधि में 180 तथा 71 डिफाल्ट, उप जिलाधिकारी पारसनाथ के समय अवधि में 109 तथा 07 डिफाल्ट। इन दोनों अधिकारियों के सबसे अधिक लम्वित संदर्भ पाए जाने पर डीएम ने कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए निर्देश दिए कि समस्त संदर्भां को तत्काल निस्तारित कराएं। उन्होंने समस्त अधिकारियों को निर्देश दिए कि अपने-अपने स्तर पर लम्वित प्रकरण गुणवत्तापूर्वक समय से निस्तारित कराएं, जो अधिकारी इस कार्य में लापरवाही करेगा, उसके विरुद्ध कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व महेन्द्र सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अजय कुमार श्रीवास्तव तथा नगर मजिस्ट्रेट राजकुमार द्विवेदी सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
——
मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में आएगी कमी : डीएम
बदायूं। आरएमएनसीएच प्लस ए प्रोग्रामों के माध्यम से मातृ एवं शिशु मृत्यु दर कम करने के लिए स्टाफ नर्स एवं एएनएम को प्रशिक्षण दिया जाएगा।
बुधवार को जिलाधिकारी अनिता श्रीवास्तव ने जिला महिला चिकित्सालय पहुँचकर मिनी स्कील लैब का फीता काटकर उद्घाटन किया। उन्होंने बताया कि इस मिनी लैब में स्टाफ नर्स एवं एएनएम को प्रशिक्षण देकर अचानक मातृ एवं शिशु मृत्यु दर होने से बचाया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि प्रसव के समय पूर्ण व्यवस्था और जानकारी न होने पर जच्चा-बच्चा की मृत्यु हो जाती थी, अब आरएमएनसीएच प्लस ए के माध्यम से स्टाफ नर्स एवं एएनएम को मिनी स्कील लैब में प्रशिक्षण देकर मृत्यु दर को कम किया जाएगा। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नेमी चन्द्रा, जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ. कौशल कुमार, डॉ. हाकिम सिंह, डॉ. अंकुर, डॉ. प्रदीप, नर्स मेन्टर नीलम धामी तथा नर्स एजूकेटर महेश सहित अन्य डाक्टर उपस्थित रहे।

loading...
Comments
No comments yet. Be first to leave one!

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News