बदायूं रेलवे स्टेशन: शीतल जल प्याऊ पर लिखे शहीद-ए-बगदाद का नाम मिटाया

Share On :

रेलवे स्टेशन पर शहीद-ए-बगदाद के नाम से शहीदे बगदाद वेलफेयर फाउडेशन ट्रस्ट इस संस्था ने कराया था निर्माण

बदायूं।भारतीय रेलवे ने यात्रियों की सुविधाओं में सामाजिक संस्थाओं की भागीदारी शुरू की, तो कई संस्थाओं ने हाथ बढ़ाए उसमे एक संस्था शहीदे बगदाद वेलफेयर फाउडेशन ट्रस्ट भी है । बदायूं में स्थानीय रेलवे स्टेशन पर दो शीतल जल प्याऊ बनबाये गए । इनमें से एक प्याऊ पर उर्दू में लिखा नाम रेलवे ने बीते दिन मिटवा दिया। रेलवे ने इसे राजभाषा अधिनियम का उल्लंघन मानते हुए ये कदम उठाया। इसकी सूचना संबंधित संस्था को भी दे दी गई है।
रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म नंबर एक पर पंजाबी समाज सेवा समिति ने पक्का शीतल जल प्याऊ बनवाया है, जबकि प्लेटफार्म नंबर दो पर शहीद-ए-बगदादी के नाम से प्याऊ बना है। दो नंबर पर बने प्याऊ पर उर्दू में लिखा गया था। यह लिखावट कई महीने पहले की गई थी, जबकि इस दौरान केंद्र में रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा समेत जीएम से लेकर तमाम अफसर कई दफा आए, मगर किसी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।
राजभाषा अधिनियम के उल्लंघन की भनक जब रेलवे के डिवीजनल कामर्शियल इंस्पेक्टर (डीसीआई) फराज हुसैन को लगी, तो उन्होंने विभागीय पत्र भेजकर शीघ्र उर्दू की लिखावट को मिटवाने के निर्देश दे दिए। इसी के बाद बीते दिनों रेलवे के स्थानीय अफसरों ने आरपीएफ के साथ शहीद-ए-बगदादी के नाम बनी प्याऊ पर सभी लिखावट को मिटवा दिया। यही नहीं रेलवे अफसरों ने संस्था से जुड़े पदाधिकारियों को बुलाकर इसकी जानकारी भी दी अब देखना यह है कि अधिनियम के अनुपालन में संस्था कब तक हिन्दी में दोबारा लिखावट कराती है। बहरहाल इसे लेकर तमाम तरह की चर्चाएं हो रही है जिससे लोगों में इस कदम को लेकर काफी नाराज़गी है।

loading...
Comments
No comments yet. Be first to leave one!

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News